एक हजार क्विंटल गेहूँ की बंदरबाट न हो, निःशुल्क वास्तविक जरूरतमंद को मिले: विधायक गुर्जर
एक हजार क्विंटल गेहूँ की बंदरबाट न हो, निःशुल्क वास्तविक जरूरतमंद को मिले: विधायक गुर्जर

TOC NEWS @ www.tocnews.org


ब्यूरो चीफ नागदा, जिला उज्जैन // विष्णु शर्मा 8305895567


नागदा जं.। एक हजार क्विंटल गेहूॅं की बंदरबाट न हो निष्पक्ष तरीके से शासन के निर्देश अनुरूप वास्तविक जरूरतमंदों को बगैर राजनैतिक आधार पर मिले ऐसे आदेश देने की मांग विधायक दिलीपसिंह गुर्जर ने कलेक्टर शाशंक मिश्र से कर चेतावनी देते हुए कहा कि लाॅकडाउन के दौरान गरीबों के लिए भेजा गया गेहूॅं को भ्रष्टाचार की भेंट नहीं चढने दिया जायेगा।


इसे भी पढ़ें :- धड़ल्ले से अंग्रेजी दवाओं से उपचार कर मरीजों से मनमानी फीस वसूलने वाले झोलाछाप डॉ अल्ताफ खान के दवाखाना सील


श्री गुर्जर ने कहा कि आम नागरिकों से शिकायत प्राप्त हो रही है कि बेघर, माईग्रेन्ट लेबर, आवागमन रूकने से आयोजित राहत केन्द्र तथा अन्य स्थानों पर रूके परिवारों को भोजन उपलब्ध कराने हेतू शासन द्वारा 1 हजार क्विंटल गेहूॅं नागदा-खाचरौद अनुभाग में निःशुल्क बटाने हेतू आवंटित किया गया है। उन्हें न देते हुए अपात्र लोगों को दिया जा रहा है।


इसे भी पढ़ें :- कोराना पॉजिटिव शव के साथ ही कर डाला घिनौना खेल, भोपाल के तहसीलदार का अमानवीय चेहरा सामने आया, यह धरती का भगवान नहीं, खलनायक निकला


श्री गुर्जर ने कहा है कि जो गरीब है, जो शासन की विभिन्न श्रेणीयों जिन्हें राशन की पात्रता है उन्हें छोडकर देने के निर्देश है के बावजुद भी अधिकारियों एवं कन्ट्रोल डिलरों की साठगांठ से राजनैतिक आधार पर 15 किलों गेहूॅं अपात्र परिवार को बगैर जांच करे गुपचुप तरीके से दिया जा रहा है। जो की नियम विरूध है प्रशासन को चाहिए की वो वास्तविक गरीब व्यक्यिों जिन्हें खाद्यान्न की आवश्यकता है को चिन्हित कर बाटना चाहिए। यदि शासन ने इस ओर ध्यान नही दिया तो आगामी विधानसभा में इस मुद्दे को उठाकर भ्रष्टाचारियों के चेहरों को बेनकाब किया जायेगा।


इसे भी पढ़ें :- पत्रकार को गाड़ी से रोदने का षड्यंत्र, गाड़ी से ठोककर जान से मरने की कोशिश, प्रकरण दर्ज, आरोपी व्यापारी की साजिश का ऑडियो वायरल


विधायक गुर्जर ने अनुविभागीय अधिकारी से अनुरोध किया है कि नागदा-खाचरौद क्षेत्र में बहुत सी सामाजिक संस्थाऐं गरीबों को भोजन पैकेट बनाकर वितरण कर रही है उन्हें भी उक्त योजना अनुसार पर्याप्त मात्रा में गेहूॅं का आंवटन किया जाये जिससे की क्षेत्र में कोई व्यक्ति भुखा न सोये। लाॅकडाउन की अवधि में बेघर, माईगे्रन्ट लेबर, आवागमन रूकने के कारण संचालित राहत केम्प एवं अन्य ऐसे स्थानों पर रूके हुए परिवारों को राहत के रूप में भोजन उपलब्ध कराने के लिए विभिन्न सामाजिक संस्थाओं एवं दानदाताओं से प्राप्त सामग्री के साथ उक्त खाद्यान्न का उपयोग कच्चा राशन वितरण/भोजन पैकेट वितरण में किया जा सकता है। ऐसे शासन के निर्देश है।


Popular posts
छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के उप सचिव के घर आयकर विभाग की रैड, निकला 100 करोड़ कैश व 25 किलो सोना
Image
हत्या के प्रयास में 07 माह से फरार कुख्यात बदमाश शादाब जहरीला का साथी राज प्रजापति को तलैया पुलिस ने किया गिरफ्तार
Image
नवाचार के माध्यम से बच्चों के बौद्धिक क्षमता को बढ़ाएं : डॉ. आलोक शुक्ला
Image
आरोग्य सेवा शोध संस्थान द्वारा जड़ी बूटियों द्वारा तैयार "आयुर्वेदिक सैनिटाइजर" का नि:शुल्क वितरण कार्यक्रम संपन्न
Image
कोरोना से निपटने मध्यप्रदेश सरकार आयुर्वेदिक काढ़े के भरोसे, काढ़े के ( प्रचार ) पैकेट पर शिवराज की तस्वीर
Image