जनसंपर्क विभाग की गोपनीय विज्ञापन प्रणाली का हुआ खुलासा, बजट नही फिर भी चहेतों को बाँट रहे लाखों के विज्ञापन
जनसंपर्क विभाग की गोपनीय विज्ञापन प्रणाली का हुआ खुलासा, बजट नही फिर भी चहेतों को बाँट रहे लाखों के विज्ञापन



लगातार सेटिंग के विज्ञापन जारी होते रहते हैं जिनकी राशि 10-20 हजार नहीं वरना दो लाख से 20 लाख



विशेष ख़बर  :  विनय जी डेविड  : 9893221036 


TOC NEWS @ www.tocnews.org


भोपाल । कमलनाथ सरकार ने जब से मध्यप्रदेश में सत्ता संभाली है तब से जनसंपर्क विभाग के द्वारा काले कारनामों की सूची में लगातार विस्तार हो रहा है, बेलगाम विभाग में फर्जी वेबसाइट घोटाला, फर्जी एनजीओ को दिए जाने वाले विज्ञापन घोटाला, फर्जी अधिमान्यता घोटाला, फर्जी विज्ञापन का भुगतान घोटाला, घोटाले के नाम पर जनसंपर्क विभाग ने अपना नाम मध्य प्रदेश में अन्य विभागों की तुलना में नंबर वन कर दिया है।

जनसंपर्क विभाग के घोटाले चरम पर है कई पत्रकार संगठनों ने इस इन मुद्दों पर कई बार विभाग के आयुक्त और प्रमुख सचिव को घोटालों की लिखित शिकायतों को भी दर्ज कराया है एवं समय-समय पर ऐसे मुद्दे उठा रहे हैं, पत्रकारों के बीच में उठाते हुए हैं। परंतु शासन प्रशासन के किसी बात को लेकर कभी भी गंभीरता से नहीं लिया यहां तक कि कोई प्रकरण माननीय न्यायालय और माननीय हाईकोर्ट जबलपुर न्यायालय में पहुंच चुके हैं. इस प्रकरण में विभाग न्यायालय के आदेशों की धज्जियां उड़ाने में माहिर है।


इसे भी पढ़ें :- फर्जी वेबसाइट्स घोटाला : जनसंपर्क विभाग के पीएस संजय शुक्ला व आयुक्त पी. नरहरि को हाईकोर्ट का अवमानना नोटिस


जनसंपर्क विभाग ने 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिए जाने वाले लघु पत्रिका एवं समाचार पत्रों को विज्ञापन के नाम पर पत्रकारों के सामने इस तरीके से रोना रोया कि मध्य प्रदेश सरकार के पास पत्रकारों को देने के लिए किसी भी प्रकार का बजट नहीं है, विगत 1 वर्षों से मध्य प्रदेश जनसंपर्क विभाग इसी तरीके से छोटे समाचार पत्र मालिकों को कहानी सुनाता रहा है यहां तक कि जनसंपर्क विभाग ने इस बार पत्रकारों की दिवाली का दिवाला की निकाल दिया।


इसे भी पढ़ें :- जनसम्पर्क विभाग में 300 करोड़ के विज्ञापन घोटाले में मुख्यमंत्री के सेकेट्री आईएएस समेत कई के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के आदेश


परंतु इस सबके पीछे से जो कहानी सामने आई है वह इस प्रकार है कि सरकार नेताओं और अधिकारियों के चहेतों को लगातार लाखों रुपए के विज्ञापन गुपचुप तरीके से प्रदान किए जा रहे हैं जिसकी पत्रकार जगत में कानों कान खबर नहीं हो पा रही है। और जिन लोगों को इस बात की जानकारी है वह ऐसे मामले को उजागर करने से घबराते हैं परंतु वह भी इस प्रताड़ना से कसमसाते रहते हैं। और कई गोदी पत्रकार भी विभाग के गुन गाते रहते बाज नही आते और वह कहते हैं कि सरकार में कोई भ्रष्टाचार नहीं हो रहा है और इस प्रकार के विज्ञापन किसी को भी जारी नहीं किये जा रहे हैं विज्ञापन पूरी तरीके से बंद है।


इसे भी पढ़ें :- नटवरलाल और जनसंपर्क – पार्ट 1 : जनसम्पर्क ने किया आइसना के विज्ञापन 2 लाख का भुगतान चिटरबाज अवधेश भार्गव के हवाले


जनसंपर्क की गोपनीय विज्ञापन वितरण प्रणाली ज्यादा दिन छुपकर नहीं रह सकती थी, और यही कारण रहा कि कई विज्ञापन आदेश आरो सोशल मीडिया में खुलेआम प्रसारित हो रहे हैं उसमें से एक विज्ञापन आदेश ( आर ओ ) की प्रतिलिपि हम अपने मध्य प्रदेश के पत्रकार साथियों के बीच में प्रस्तुत कर रहे हैं ताकि वह जान ले कि बजट की कहानी के पीछे की स्थिति क्या है। लगातार सेटिंग के विज्ञापन जारी होते रहते हैं जिनकी राशि 10-20 हजार नहीं वरना दो लाख से 20 लाख की होती है। 
बजट का अभाव बताकर जनसंपर्क विभाग सदैव पत्रकारिता से जुड़े साथियों का शोषण करता रहा है जबकि गोपनीय तरीके से सारी व्यवस्थाएं संचालित की जा रहे हैं क्या यह लाखों रुपयों के विज्ञापन बिना विभाग के मंत्री, प्रमुख सचिव, आयुक्त, संचालक संयुक्त संचालक और विज्ञापन विभाग के बिना प्राप्त किए जा सकते हैं या सब की मिलीभगत है।


इसे भी पढ़ें :- घोटाला : जनसंपर्क विभाग में आयरन फ्रेम बोर्ड घोटाला, बोर्ड लगे ही नहीं, पेमेंट कर दिया


ऐसे गुपचुप जारी होने वाले विज्ञापन के लिए पत्रकार संगठन "ऑल इंडिया स्माल न्यूज पेपर एसोसिएशन (आइसना ) विरोध करता है एवं वही मध्यप्रदेश शासन से अनुरोध करता है कि इस तरह की विज्ञापन बंद कर सभी मीडिया से जुड़े संस्थानों को विधिवत जिस तरह शिवराज शासन के कार्यकाल में विज्ञापन जारी किए जाते थे उसी तरह विज्ञापन जारी करें वरना इस तरीके से गुपचुप तरीके से गोपनीय विज्ञापन प्रणाली के खिलाफ प्रदर्शन किया जाएगा।





जनसंपर्क विभाग की गोपनीय विज्ञापन प्रणाली का हुआ खुलासा



जनसंपर्क द्वारा जारी आदेश क्रमांक डी-16237 दिनांक 31 दिसंबर 2019 का ₹200000 का विज्ञापन आदेश ( आर ओ ) की प्रतिलिपि खबर के साथ प्रेषित की जा रही है उक्त  ( आर ओ ) में समाचार पत्र का नाम उक्त विज्ञापन जारी किया गया है उनका नाम ""बजट नहीं फिर भी : जनसंपर्क"" का एक बॉक्स लगाकर छुपा दिया गया है ताकि उक्त संस्थान को अत्यधिक परेशानी ना हो, ( आर ओ )  इस बात की पुष्टि के लिए है कि आज भी सेटिंग के द्वारा विज्ञापन अपने चाहतों को बांटे जा रहे हैं।


नोट :- यह खबर ( जनहित सन्देश ) में पूरे प्रदेश में मीडिया जगत में फैला दें ताकि सभी पत्रकार साथियों को इसकी जानकारी हो, हम जल्दी मिलते हैं अगले खुलासे के साथ


Popular posts
एडिशनल एसपी क्राइम ब्रांच निश्चल झरिया के विरुद्ध न्यायिक जांच की मांग, थाने में बैठाकर समझौता करवाने का आरोप, नहीं करने पर फर्जी मुकदमे में फ़साने की धमकी
Image
दैनिक वांटेड टाइम्स के संपादक संदीप मानकर को खबर प्रकाशन के मामले के प्रकरण में भोपाल से गिरफ्तार कर हरियाणा पुलिस ले गई
Image
महिला के सामने हस्तमैथुन करते हुए थाना प्रभारी का वीडियो वायरल, Video अकेले में देखें, दारोगा निलंबित मुकदमा दर्ज
Image
पांढुरना ( छिंदवाड़ा) ग्राम तिगांव के लक्ष्मी ढाबे के नजदीक एक ट्रक और मोटरसाइकिल की भिड़ंत, नागपुर रेफर
Image
आदित्य बिड़ला की महान एल्युमिनियम प्लांट (हिंडाल्को) बरगवां (सिंगरौली) द्वारा मौखिक आश्वासन के बाद आंदोलन कराया गया समाप्त या गंभीर षणयंत्र
Image