पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते कांग्रेस ने सिंधिया को पार्टी से निकाला
पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते कांग्रेस ने सिंधिया को पार्टी से निकाला

 


TOC NEWS @ www.tocnews.org


खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036


नई दिल्ली। मध्यप्रदेश में राजनीतिक घमासान के बीच कांग्रेस ने असंतुष्ट नेता पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को पार्टी से निकाल दिया है।


सिंधिया ने सुबह पहले गृह मंत्री अमित शाह के घर जाकर उनसे मिले और फिर शाह एवं सिंधिया पीएम मोदी से मुलाकात करने प्रधानमंत्री निवास गए। करीब एक घंटे तक चली बैठक के बाद सिंधिया और शाह एक साथ आए। इसके कुछ समय बाद सिंधिया ने ट्वीटर पर कांग्रेेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेजे गए अपनेे इस्तीफे को पोस्ट कर दिया। इस्तीफे पर सोमवार की तारीख अंकित है। इससे संकेत मिलता है कि उन्होंने शाह एवं मोदी से मिलने से पूर्व ही कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था।


सिंधिया ने सोनिया गांधी को भेजे पत्र में लिखा कि मैं पिछले 18 साल से पार्टी के प्राथमिक सदस्य था और अब समय आ गया है कि मैं पार्टी से अलग अपनी राह लूं। मैं पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से इस्तीफा दे रहा हूं। उन्होंने यह भी कहा कि उनका उद्देश्य एवं लक्ष्य देश एवं अपने प्रदेश के लोगों की सेवा करना है। उन्हें महसूस हो रहा है कि वह कांग्रेस के भीतर यह काम आगे नहीं बढ़ा पाएंगे।


इस्तीफे में विगत लोकसभा चुनाव में गुना शिवपुरी सीट पर उनकी हार का दर्द भी छलक आया जिसके लिए वह कांग्रेस के प्रदेश नेतृत्व की साजिश को जिम्मेदार मानते है और यह भी संकेत दिया था कि इससे आहत हो कर वह पिछले साल से ही कांग्रेस से बाहर जाने की सोच रहे थे।


सिंधिया के इस्तीफे का मध्यप्रदेश की राजनीति पर दूरगामी प्रभाव पड़ना तय है। ग्वालियर-चंबल और उत्तरी मालवा क्षेत्र में सिंधिया के प्रभाव के कारण पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को सर्वाधिक सफलता मिली थी। माना जा रहा है कि मध्यप्रदेश में करीब 4 से 6 मंत्री और 15 से अधिक विधायक सिंधिया के समर्थन में इस्तीफा दे सकते हैं। उनके जैसे बड़े एवं व्यक्तिगत जनाधार वाला नेता कांग्रेस और भाजपा किसी भी दल में नहीं है। उनके कांग्रेस छोड़ने से भविष्य में मध्यप्रदेश के राजनीतिक पटल पर कांग्रेस के अस्तित्व के लिए गंभीर संकट पैदा हो सकता है।


मध्यप्रदेश में कांग्रेस की राजनीति में सम्मान नहीं मिलने के कारण नाराज चल रहे सिंधिया के समर्थक बीस से अधिक विधायक बेंगलूरु में हैं। बीते तीन चार दिनों से कांग्रेस के विधायकों के बगावत करने के बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने दिल्ली में कांग्रेस आलाकमान से मुलाकात की थी। लेकिन वह सिंधिया को मनाने में विफल रहे।


Popular posts
पत्रकार संगठन AISNA, ALL INDIA SMALL NEWS PAPERS ASSOCIATION
Image
एडिशनल एसपी क्राइम ब्रांच निश्चल झरिया के विरुद्ध न्यायिक जांच की मांग, थाने में बैठाकर समझौता करवाने का आरोप, नहीं करने पर फर्जी मुकदमे में फ़साने की धमकी
Image
तेज आंधी तूफान के चलते सालों पुराना पेड़ एक निजी बस पर गिर गया, विस्तृत खबर के लिए देखिए वीडियो
Image
विवादित तीरंदाजी कोच रिचपाल सिंह सलारिया के आपराधिक प्रकरण में जबलपुर न्यायालय में पेशी, कई आपराधिक प्रकरण दर्ज होने के बाद भी शासकीय नौकरी पर काबिज
Image
राहुल गांधी ने मानहानि मामले में सजा के खिलाफ सूरत कोर्ट में अर्जी की दाखिल
Image