इंदौर और भोपाल जिला कलेक्टर के अधीन पदस्थ राज्य प्रशासनिक सेवा अधिकारी



इंदौर और भोपाल जिला कलेक्टर के अधीन पदस्थ राज्य प्रशासनिक सेवा अधिकारी





TOC
 NEWS @ www.tocnews.org




खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036




भोपाल : राज्य प्रशासनिक सेवा के चार अधिकारियों को कोविड-19 के प्रबंधन व्यवस्था में सहयोग के लिये राज्य शासन ने कलेक्टर जिला इंदौर के अधीन संबद्ध किया है। इसमें भू-सम्पदा विनियामक प्राधिकरण (रेरा) भोपाल के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी श्री अभय अरविन्द बेडेकर, खाद्य एवं औषधि प्रशासन के संयुक्त नियंत्रक श्री देवेन्द्र कुमार नागेन्द्र, जिला राजगढ़ के अपर कलेक्टर श्री विशाल सिंह चौहान और सामान्य प्रशासन के अवर सचिव श्री शाश्वत सिंह मीना शामिल हैं।




एक अन्य आदेश




कोविड-19 के प्रबंधन की व्यवस्था में सहयोग के लिये राज्य शासन ने राज्य प्रशासनिक सेवा के चार अन्य अधिकारियों को कलेक्टर जिला इंदौर के अधीन संबद्ध किया है। इसमें जिला देवास के संयुक्त कलेक्टर श्री राजेन्द्र सिंह रघुवंशी, जिला झाबुआ के डिप्टी कलेक्टर श्री अनिल भाना, जिला अलीराजपुर के डिप्टी कलेक्टर श्री अखिल राठौर और जिला धार के डिप्टी कलेक्टर श्री भूपेन्द्र रावत शामिल हैं।




जिला भोपाल के अधीन संबद्धता




कोविड-19 के प्रबंधन की व्यवस्था में सहयोग के लिये राज्य शासन ने राज्य प्रशासनिक सेवा के दो अन्य अधिकारियों को कलेक्टर जिला भोपाल के अधीन संबद्ध किया है। इसमें सामान्य प्रशासन विभाग (पूल) में पदस्थ श्री प्रताप नारायण यादव और राज्य निर्वाचन आयोग के अवर सचिव श्री क्षितिज शर्मा शामिल हैं।



Popular posts
दैनिक वांटेड टाइम्स के संपादक संदीप मानकर को खबर प्रकाशन के मामले के प्रकरण में भोपाल से गिरफ्तार कर हरियाणा पुलिस ले गई
Image
भू माफिया अशोक गोयल 75 करोड़ की जमीन की धोखाधड़ी के आरोपी को जेल भेजा, अंचित गोयल फरार
Image
मेथोडिस चर्च संस्थान के घोटालेबाज विशप एम. ए. डेनियल, मनीष एस गिडियन, एरिक पी. नाथ की अग्रिम जमानत की सुनवाई 4अप्रैल २०२३ को जबलपुर कोर्ट में हुई माननीय न्यायालय ने इन चिटरबाजों की जमानत निरस्त, जल्द जायेंगे गिरफ्तार होकर जेल
Image
फर्जी पुलिस बन नौकरीपेशा महिलाओं से शादी का झांसा देने वाला आरोपी गिरफतार
Image
विवादित तीरंदाजी कोच रिचपाल सिंह सलारिया के आपराधिक प्रकरण में जबलपुर न्यायालय में पेशी, कई आपराधिक प्रकरण दर्ज होने के बाद भी शासकीय नौकरी पर काबिज
Image