तबलीगी जमात के चीफ मौलाना साद के खिलाफ ईडी ने दर्ज किया मनी लांड्रिंग का केस, जल्द हो सकती है गिरफ़्तारी
Tablighi Jamaat Chief Maulana Saad : तबलीगी जमात के चीफ मौलाना साद के खिलाफ ईडी ने दर्ज किया मनी लांड्रिंग का केस, जल्द हो सकती है गिरफ़्तारी

TOC NEWS @ www.tocnews.org


खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036


नई दिल्ली: निजामुद्दीन के तबलीगी जमात के मरकज मामले में क्राइम ब्रांच की जांच जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है, वैसे-वैसे कई चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं. क्राइम ब्रांच को अभी तक अपनी जांच में पता चला है कि मरकज को साल 2005 के बाद हवाला के जरिए सऊदी अरब और बाकी देशों से मरकज में आने वाले जमातियों के खाने पीने के नाम पर नकद पैसा आता था.


इसी बात को पुख्ता करने के लिए क्राइम ब्रांच ने मरकज को 91 सीआरपीसी के तहत नोटिस जारी कर मरकज के बैंक अकाउंट और बैंक स्टेटमेंट मुहैय्या कराने के साथ साथ वहां पर काम करने वाले कर्मचारी, मरकज के खर्चो समेत काफी जानकारी मांगी है. क्राइम ब्रांच के सूत्रों की माने तो मरकज में ज्यादातर फंडिंग हवाला के जरिए हो रही थी.


इसे भी पढ़ें :- मध्य प्रदेश में बुलेट ट्रेन स्पीड तेजी से बढ़ रहा कोरोना संक्रमण, 55 मौतों के साथ कोरोना मरीजों की संख्या 1164 हुई, 94 स्वास्थ्य कर्मी कोरोना पॉजिटिव


बुधवार को भी क्राइम ब्रांच (Crime Branch) की टीम एक बार फिर मरकज के अंदर गई और फिर पूरे मरकज की तलाशी ली गई. क्राइम ब्रांच की टीम करीब तीन घंटे तक वहां पर रही. आसपास के लोगों से बात की गई. इसके अलावा क्योंकि आज एमसीडी को मरकज का कूड़ा और जमातियों का बेकार समान अपने साथ ले जाकर जलाना था.


मौलाना साद की मरकज का अमीर बनने की कहानी!


निज़ामुद्दीन के तबलीगी जमात के मरकज के मुखिया को अमीर बोला जाता है. मोहम्मद साद (Saad) तब्लीगी के संस्थापक इलियास कंधावली का पोता है जिसकी पैदाइश 1965 में यूपी के शामली में हुई. नवंबर 2015 से तबलीगी के सबसे ऊंचे ओहदे अमीर भी वही है. तबलीगी की सबसे बड़ी एडवायजरी काउंसिल को शूरा कहते हैं. साद तबलीगी का अमीर बनने से पहले 1995 से 2015 तक शूरा का सदस्य रहा. 


इसे भी पढ़ें :- एएसआई का हाथ काटने वाले निहंग बलविंदर को लेकर हुआ बड़ा ख़ुलासा, इतना खुंखार अब खुली पोल


शाद के दादा मौलाना इलियास कंधावली पहले अमीर थे. बाद में इलियास के बेटे मौलाना मोहम्मद युसूफ कंधावली और मौलाना इनाम उल हसन अमीर बने. 1995 से पहले जुबैर के पिता अमीर थे लेकिन 1995 में उनकी मौत के बाद उनके बेटे जुबैर को अमीर बनना था. लेकिन मौलाना साद ने मेवात से अपने लोगों को बुलाकर जुबैर और उसके समर्थकों के साथ हिंसा की और ऐलान कर दिया कि मरकज में अब कोई अमीर नहीं होगा, बल्कि मरकज को एक कमेटी चलाएगी जिसमें जुबैर और मौलाना साद के अलावा कई और भी रहेंगे. लेकिन 2014 में जुबैर की मौत के बाद मौलाना साद अपने आप को मरकज का अमीर घोषित कर देता है, जिसका विरोध करने वाले लोगों की दिन four जून 2016 को बुरी तरह पिटाई की जाती है. इसके बाद मौलाना साद के हाथ में मरकज की पूरी बागडोर आ जाती है.


मौलाना साद के रसूख का आलम ये है कि इलाके की पुलिस भी बिना इजाजत मरकज में नहीं जा सकती. इलाके के डीसीपी भी मौलाना साद से मिलने के लिए 2 घंटे तक इंतजार करते थे. पहले मरकज में धर्म प्रचार के लिए जमाती अपने पैसों को खर्च करते थे लेकिन 2005 के बाद मौलाना साद ने सऊदी अरब समेत अन्य देशों के दौलत मंद तबलीगी जमात के लोगों को धर्म के प्रचार और प्रसार के लिए नकद पैसा देने को कहा तो उन देशों से ज्यादातर पैसा हवाला के ज़रिए मरकज़ को मिलता था.


Popular posts
ग्रेसिम उद्योग के विस्तारीकरण के पूर्व 7 सूत्रीय मांग पत्र उद्योग चेयरमैन कुमार मंगलम बिरला सहित बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स को भेजकर उठाई मांग
Image
जनसंपर्क विभाग के लोक सूचना अधिकारी श्रवण कुमार सिंह उपसंचालक ( विज्ञापन ) का षड्यंत्र विफल, राज्य सूचना आयोग का आदेश जानकारी एक माह में दे ऑल इंडिया स्माल न्यूज पेपर एसोसिएशन ( आइसना ) के सही मालिक को
Image
बारहवीं के रिजल्ट ने ले ली छात्रा की जान - बिगड़ा था अंग्रेजी का पर्चा
Image
सरकार और किसानों के बीच नहीं बनी सहमति, 3 दिसंबर को फिर होगी बातचीत, जारी रहेगा प्रदर्शन
Image
प्रधान मंत्री रोजगार योजना को विफल करते बैंक अधिकारी ऋण दलाल और बैंक अधिकारी कर रहे काली कमाई
Image