कृषि उपज मंडी अधिकारियों की मिलीभगत से भारतीय कपास निगम को व्यापारियों का माल फर्जी किसान बनकर बिकवाया
कृषि उपज मंडी अधिकारियों की मिलीभगत से भारतीय कपास निगम को व्यापारियों का माल फर्जी किसान बनकर बिकवाया

 


TOC NEWS @ www.tocnews.org


ब्यूरो चीफ पांढुर्ना, जिला छिंदवाड़ा // पंकज मदान  9595917473 


पांढुर्णा ( छिंदवाड़ा ) भारतीय कपास निगम द्वारा गत 7 मई से स्थानीय कृषि उपज मंडी में कपास की खरीदी प्रारंभ की है जिससे किसानों को कपास के अच्छे भाव मिल रहे हैं. वही कुछ व्यापारी महाराष्ट्र से माल खरीद कर ला रहे हैं और स्थानीय किसानों के नाम से कपास भारतीय कपास निगम को बेची जा रही है.


वीडियो ख़बर इनका कहना है :- भारतीय कपास निगम के मैनेजर मीणा



.


कुछ मामले में तो यह भी सामने आया कि भारतीय कपास निगम को जिन व्यक्तियों ने कपास बेची है, उनके पास नाम मात्र की भी खेती नहीं है. ऐसे में यह कहना गलत नहीं होगा की कृषि उपज मंडी अधिकारियों की मिलीभगत से भारतीय कपास निगम को व्यापारियों का माल फर्जी किसान बनकर बिकवाया जा रहा है जिसमें भारतीय कपास निगम के कर्मचारी तो बाहर से आए हुए हैं उन्हें नही मालूम कि किसान कौन है और व्यापारी कौन है. यदि निष्पक्षता से जांच कराई जाए तो पूरा मामला सामने आ सकता है.


Popular posts
जनसंपर्क के सहायक संचालक मुकेश दुबे पर राज्य सूचना आयोग ने ₹25000 का जुर्माना ठोका, अधिरोपित शास्ति प्रत्यर्थी की सेवा पुस्तिका में अंकित करने का निर्णय
Image
पर्यटन की संभावना के बावजूद रख-रखाव के अभाव में उपेक्षित शेरगढ़ का किला
Image
नीलामी में घोटाला : पति रंजीत कर्नाल की शाजिस पर 41 लाख की जमीन 12 लाख में नीलाम करने वाली तहसीलदार दीपाली निलंबित
Image
दैनिक वांटेड टाइम्स के संपादक संदीप मानकर को खबर प्रकाशन के मामले के प्रकरण में भोपाल से गिरफ्तार कर हरियाणा पुलिस ले गई
Image
सरकार और किसानों के बीच नहीं बनी सहमति, 3 दिसंबर को फिर होगी बातचीत, जारी रहेगा प्रदर्शन
Image